यादों के पार

  
हम मिलें हैं क्या?
बंद दरवाज़ों के आर पार कभी?
एक ख़्वाब में, जो शायद 
कभी देखा ही नहीं?
या ग़ज़ल में किसी
जो अभी कहनी बाक़ी है?

उस लफ़्ज़ में जो, अनबोला,
मेरे होंठों पे बैठा है उदास
या अनपढ़ा, पड़ा 
इंतज़ार में 
इक किताब में?
हम मिलें हैं कभी?

धुएँ में उस आग के
जो सुलगी ही नहीं?
या फिर क़दमों की आहट में
जो थे, 
पर थे तो नहीं! 
शायद वहीं कहीं?

  
  


एक ख़ुशबू , जो 

मुझ तक पहुँचने से पहले
खो गयी थी कहीं।
एक नाज़ुक एहसास की गरमी
जो दिल के पास सिहरी शायद।
कहीं वहीं तो नहीं?


इक बादल था, जो अनदेखा

गुज़र गया आकाश में।
एक आह थी, 
कि कभी, कहीं, काश में …
क्या वहीं, उस उम्र में 
जो जिये ही नहीं?
यक़ीनन तो वहीं?
हम मिलें हैं क्या?

(भानगढ़, फ़रवरी २०१६)

नोट – कोई कोई स्थान ऐसे होते हैं जो दिल में हज़ार प्रश्न जगा जाते हैं! एक अजीब सा एहसास, एक बिसरी हुई याद, एक अनकही, अनजानी दास्तान…

ऐसी ही जगह है अलवर का भानगढ़, जो रातों रात ऐसा वीरान हुआ कि 250 वर्षों में फिर न बसा। आज वहाँ केवल भूत घूमते हैं !

(यह कविता अंग्रेज़ी में भी कही गयी है।)
     

Yaadon ke paar 

Hum mile hain kya?
Band darwaazon ke aar paar kabhi?
Ek khwaab mein,
Jo shaayad kabhi dekha hi nahin?
Ya ghazal mein kisi
Jo abhi kahi hi nahi? 

Us lafz mein jo unbola
Mere hothon pe baitha hai, udaas
Ya unpadha pada 
Intezaar mein
Ik kitaab mein?
Hum mile hain kabhi?

Dhuen mein us aag ke
Jo sulagi hi nahin?
Ya phir kadamon ki aahat mein
Jo the, 
Par the to nahin!
Shaayad wahin kaheen?

Ek khushboo, jo
Mujh tak pahunhne se pehle
Kho gayi thi kahin.
Ek nazuk ehsaas ki garmi,
Jo dil ke paas sihari shaayad.
Kaheen wahin to nahi?

Ik baadal jo undekha
Guzar gaya aakash mein.
Ek aah thi ki
Kabhi, kaheen kaash mein…
Kya wahin, us umra mein
Jo jiye hi nahi,
Yaqinan to waheen?
Hum mile hain kya?

(Bhangarh, February 2016)

Note: There is something hauntingly romantic about old ruins. And when these are situated in a village which is supposed to be the ‘most haunted place in India’, one’s imagination runs wild. A memory – glimpse of a veil, a whiff of a scent, a touch of the breeze – the birth of a poem, dedicated to Bhangarh, a small village in Alwar District in Rajasthan.

(I like to write my poems in Hindi as well as English, to reach out to both the audiences! )

  

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s