Tag Archive | बाल कविता

धूप छाँव

बेपर्दा खिड़की पाकर, बेख़ौफ़ मेरे आँगन में आती हैं

सुबह सुबह सूरज की किरणें
तमाशा बहुत दिखाती हैं,
बेपर्दा खिड़की पाकर, बेख़ौफ़,
मेरे आँगन में आती हैं।

फ़र्श पर इठलाती कहीं,
मेज़-कुर्सी का रूप बनाती हैं।
कभी, अलमारी के शीशे में अपनी
छबी देख इतराती हैं।

खाने की मेज़ की काँच पर, क्या-क्या डिज़ाइन बनाती हैं?

खाने की मेज़ के काँच पर
क्या-क्या डिज़ाइन बनाती हैं!
और सोफ़े के नीचे घुसकर
सफ़ाई याद दिलाती हैं।

अब तो ये अति हुई!
छत पर चढ़, कैसा स्वाँग रचाया है?
शायद लाइट जल रही है,
ऐसा भरम दिलाया है।

अब तो ये अति हुई! छत पर चढ़, कैसा स्वाँग रचाया है? शायद लाइट जल रही है, ऐसा भरम दिलाया है।


कुछ दिन की मनमानी ये,
कर लो तुमको जो करना है!
अभी तो सर्दी के दिन हैं,
तुमसे हमको क्या डरना है?

अच्छा लगता यह खेल तुम्हारा,
हर अदा तुम्हारी भाती है।
कुछ दिन की यह हठखेली,
जल्दी ही गरमी आती है।

धूप-छाँव की तुम कर्ता,
तुमने शायद भुलाया है।
आज अपनाया, कल बिसराया!
इस जग की ये ही माया है।

हम भी, पर्दे मोटे डालकर
तुमसे बचना चाहेंगे।
नर्म हो, तब तक अच्छी लगतीं,
वरना आँख चुराएँगे!

बेतुकबंदी, नवम्बर २०११

(This poem, about the games young rays of the sun play on an early winter morning, written in November 2011, was originally posted here in the Roman script in February 2012. I translated it into English for my son, here! With Hindi transliteration now available from my iPad keyboard, I finally got around to posting it in the Devanagari script) 

Dhoop Chhaon – and some tukbandi

Dhoop Chhaon 

                                                                   

Subah subah sooraj ki kirane

Tamaasha bahut dikhaati hain

Beparda khirrki paakar  bekhauff

Mere aangan  mein aati hain.

Fursh par itthlaati kaheen 

Mez kaheen kursi ka roop banaati hain

Kabhi almaari ke sheeshe mein apni

Chhabi dekh itraati hain.

                                 

 

Khaane ki mez ke kaanch par

Kya kya design banaati hain

Aur sofe ke neeche ghuskar

Safaai yaad dilaati hain!

 

Ab to ye ati hui!

Chhat par chaddh

Kaisa swaang rachaaya hai

Shaayad light jal rahi hai, mujhe

Aisa bhram dilaaya hai. 

Kuchh din ki manmaani ye,

Karlo tumko jo karna hai

Abhi to sardi ke din hain

Tumse hum ko kya darna hai!

Achha lagta ye kel tumhaara 

Har adaa tumhaari bhaati hai

Kuchh din ki ye hath-kheli,

Jaldi hi garmi aati hai.

Dhoop-chhaon ki tum hi karta,

Tumne shaayad bhulaaya hai,

Aaj apnaaya, kal bisraaya

Is jagki yeh hi maaya hai.

Hum bhi, parde mote daalkar,

Tumse bachnaa chaahenge

Narm ho tab tak achhi lagti

Varna aankh churayenge…

(This poem has been published in the Devanagari script too. An English translation can be read here.)